Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2014

सपना

घुप्प अँधेरा पसरा  है
बाहर दूर खलियानों से
भीतर के कोनों तक ।
एका एक बारिस
और छत से गिरता पानी
बिजली की गडगडाहट भी
डरा रही है ।
दियासलाई के डिब्बे में भी
सिर्फ एक दियासलाई ,
उससे भी लालटेन जला दी ,
वो भी भप भप कर
जलती दिख रही है ,
शायद तेल कम है ।
तभी पास में रखे उजले डिब्बे
की तरफ निगाह गयी
जो अपनी रौशनी से जगमगा रहा है
उसे हाथ में उठा लिया ,
जिसमें जुगनू आपस में भिड रहे हैं ,
जो मैंने एक एक कर जमा किये
जैसे कह रहे हों
मैं तुझसे ज्यादा चमकता हूँ
और इस भिंडत में ,
और ज्यादा रौशन हो रहे हैं ।
उन्हें देखते हुए सब भूल
दिवार पर सिर टिका बैठ गयी
तभी तेज़ आँधी और तुफान आने से
मेरे हाथों से , वो जुगनुओं का डिब्बा छुट गया
जुगनू छितरा गये
बिखर गये इधर उधर
मैं हतप्रत बस देखती रही
इतना अँधेरा !!!!
अब लालटेन भी बुझ चुकी है
पेड उखड गये हैं ,
पौधे टूट गये हैं
मेरी छत भी तो उड गयी है
उस तूफान में सब बिखर गया ।
तभी दूर से आती हल्की रौशनी
अब और तेज़ होने लगी
हर तरफ फैल गयी
और मैं मलते देखती हूँ
कि सवेरा हो गया
वो आँधी , बारिस , अँधेरा
सब पीछे छूट गया
वो मेरा भयावह सपना
अब टूट गया ।
दीप्ति शर्मा