Skip to main content

Posts

Showing posts from 2018
मैं चीख रही ,
मेरा लहू धधक रहा
कहीं सड़क लाल तो
कहीं बदरंग हो रही
पर ना बिजली चमकी
ना बरसात हुई
ना आँधी आयी
आयी तो उदासी
बस नसीब में मेरे
सुन ख़ुदा !
तू बहरा हो गया क्या ?
-दीप्ति शर्मा
नीले आसमां को देखती
निगाहों की टकटकी,
आँखों से रिसते पानी को
सुबह की ओस से
रात का तारा बना देती  है ।
@दीप्ति शर्मा
ये अमावस तारीखों में दर्ज हुयी बीत जाएगी,
पर जो तुम मन में बसा लिए हो
वो अमावस कभी क्या बीत पाएगी ?
जवाब यही कि वक्त तो आने दो
वक्त भी आया और गया
पर अमावस ना खतम हुयी
देखो मन तो तुम्हारा
अँधेरी सुरंग हुआ जा रहा
बदबू साँस रोक रही
कैसे जी रहे हो तुम?
यहाँ मेरा दम घुट रहा।
#अमावसकीरात और
#तुमकोसमझतीदीप्ति